career4education.com

Advertisement

  • बोर्ड एग्जाम को लेकर ICSE बोर्ड ने भी अपनाई CBSE की रणनीति, माना सुप्रीम कोर्ट का फैसला

बोर्ड एग्जाम को लेकर ICSE बोर्ड ने भी अपनाई CBSE की रणनीति, माना सुप्रीम कोर्ट का फैसला

By: C4E Team Fri, 26 June 2020 08:26 AM

बोर्ड एग्जाम को लेकर ICSE बोर्ड ने भी अपनाई CBSE की रणनीति, माना सुप्रीम कोर्ट का फैसला

कोरोना के कहर के चलते हाल ही में सीबीएसई द्वारा निर्णय लिया गया हैं कि परीक्षाएं आयोजित नहीं कराई जाएगी और असेसमेंट की मदद से रिजल्ट तैयार किया जाएगा। हांलाकि आज सुप्रीम कोर्ट में इसको लेकर सुनवाई हैं। अब सीबीएसई की तर्ज पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला मानते हुए ICSE बोर्ड द्वारा भी 10वीं की परीक्षाएं पूरी तरह से कैंसिल कर दी हैं तो वहीं 12वीं की परीक्षाओं के लिए बोर्ड कुछ समय बाद पेंडिंग परीक्षाओं के आयोजन के बारे में विचार कर सकता है। अगर पेंडिंग परीक्षाएं होती भी हैं तो यह तय है कि वह वैकल्पिक होंगी। यानी उम्मीदवार चाहें तो वह परीक्षा दे भी सकते हैं और नहीं भी।

बता दें कि आईसीएसई बोर्ड ने पहले ही कहा था कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला सीबीएसई बोर्ड के लिए आएगा वही हम भी अमल करेंगे। मालूम हो कि परीक्षाएं रद्द करने को लेकर कुछ अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। वहीं तीन राज्यों ने भी कहा था कि प्रदेश में लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं जिसके चलते परीक्षाएं अभी नहीं कराई जा सकती हैं। इसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई थी।

बृहस्पतिवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा कि सीबीएसई बोर्ड अपना फैसला लिखित में दे ताकि सबकुछ ठीक प्रकार से साफ किया जा सके। इससे यूनिवर्सिटीज आदि को एडमिशन प्रॉसेस को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। बता दें कि जहां तक बिना परीक्षा के छात्रों को प्रमोट करने का सवाल है तो इन छात्रों को इंटर्नल ऐसेसमेंट अंकों के आधार पर पास किया जाएगा। आईसीएसई बोर्ड भी यही तरीका अपनाएगा।

यह भी पढ़े :

# 12वीं की परीक्षाओं को लेकर पंजाब सरकार ने लिया यह महत्वपूर्ण फैसला

# यूजीसी गाइडलाइंस के आधार पर कराई जाएगी इस राज्य में फाइनल ईयर की परीक्षाएं

# घोषित हुए मेघालय बोर्ड 12वीं परीक्षा के नतीजे, यहां देखें टॉपर्स की लिस्ट

# परीक्षाओं को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय ने अदालत में कही ये बात

# राजस्थान में कॉलेज की परीक्षाओं को लेकर लिया गया यह फैसला

Advertisement