career4education.com

Advertisement

  • सुनहरे भविष्य के लिए लेना चाह रहे है एजुकेशन लोन, इन बातों की जानकारी होना बहुत जरूरी

सुनहरे भविष्य के लिए लेना चाह रहे है एजुकेशन लोन, इन बातों की जानकारी होना बहुत जरूरी

By: C4E Team Sat, 20 Apr 2019 1:58 PM

सुनहरे भविष्य के लिए लेना चाह रहे है एजुकेशन लोन, इन बातों की जानकारी होना बहुत जरूरी

12वीं बोर्ड की परीक्षाओं के साथ ही सुनहरे भविष्य की कल्पनाएँ भी शुरू हो जाती हैं। जैसा कि12वीं बोर्ड के परिणामों के साथ ही कॉलेज के चुनाव की प्रक्रिया भी शुरू हो जाती हैं। ऐसे में कई उम्मीदवार अपनी पढ़ाई और सुनहरे भविष्य के लिए एजुकेशन लोन लेना पसंद करते हैं ताकि वे अपनी पढ़ाई सुचारू रूप से बिना किसी निर्भरता के कर सकें। लेकिन एजुकेशन लोन लेने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत होती है और इसकी तैयारी करनी पड़ती हैं। आज हम आपको एजुकेशन लोन से जुड़ी अहम जानकारियां देने जा रहे हैं जो आपके लिए बेहद मददगार साबित होगी। तो आइये जानते है इस जानकारी के बारे में।

- सबसे पहले तो जान लें कि किन-किन कोर्सेज के लिए लोन मिल सकता है। बता दें कि लोन लेकर फुल टाइम, पार्ट टाइम या वोकेशनल कोर्स किये जा सकते हैं। इसके अलावा इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, मेडिकल, होटल मैनेजमेंट और आर्किटेक्चर आदि में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए लोन लिया जा सकता है।

- लोन के लिए आवेदन करने वाले का भारतीय नागरिक होना जरुरी है। इसके साथ ही भारत या विदेश में किसी वैध संस्था से मान्यताप्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी में एडमिशन तय हो चुका हो। आवेदक का बारहवीं की परीक्षा पास कर चुका होना जरुरी है।

- सस्ते और आसान लोन के लिए अच्छा क्रेडिट स्कोर जरूरी है, लेकिन एजुकेशन लोन के मामले में बच्चों का एजुकेशन स्कोर यानी हाईस्कूल और इंटर के अंक बेहद मायने रखते हैं। एक्‍सपर्ट की मानें अगर छात्र मेधावी है तो बैंक एजुकेशन लोन देने में देर नहीं करते, क्योंकि बैंक एक ही चीज देखते हैं कि ऋण की वापसी कैसे होगी?

career tips,career tips in hindi,education loan,education loan tips ,करियर टिप्स, करियर टिप्स हिंदी में, एजुकेशन लोन, एजुकेशन लोन की जानकारी

- एजुकेशन लोन के लिए अभिभावक की पृष्ठभूमि बहुत मायने नहीं रखती। अगर पिता की आय कम भी है तो भी बच्चे के अच्छे अंकों के आधार पर बैंक एजुकेशन लोन को मंजूरी दे देते हैं।

- आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए मानव संसाधन विभाग की केंद्रीय योजनाओं के तहत कुछ प्रावधान हैं। इसके तहत तकनीकी और व्यावसायिक कोर्स के लिए एजुकेशन लोन के ब्याज पर सब्सिडी दी जाती है।

- 18 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए एजुकेशन लोन के लिए आवेदक की उम्र सीमा। वहीं अभिभावक-छात्र की ऋण चुकाने की क्षमता के आधार पर 10 लाख से 20 लाख का ऋण बैंक देते हैं।

- अगर आप योग्‍य हैं और बैंक द्वारा निर्धारित नियमों में फिट बैठते हैं, लेकिन उसके बावजूद आपको कोई बैंक एजुकेशन लोन देने से मना कर दे तो आप इसकी शिकायत आरबीआई से कर सकते हैं, क्योंकि आरबीआई के नियमों के अनुसार कोई भी बैंक बिना उचित कारण एजुकेशन लोन देने से मना नहीं कर सकता।

- ऋण वापसी कोर्स पूरा होने के एक साल बाद या रोजगार मिलने के छ: महीने बाद जरूरी है। ऋण वापसी शुरू होने के पांच से सात सालों के बीच पूरी होनी चाहिए।ऋण चुकाने की अवधि अलग-अलग बैंकों में अलग-अलग है।

यह भी पढ़े :

# बोलना चाहते है अंग्रेजों से भी अच्छी अंग्रेजी, बस रोज करने होंगे ये 5 काम

# उच्च शिक्षा के लिए जाना चाहते हैं ऑस्ट्रेलिया, भारतीय स्टूडेंट्स की मदद करती है ये स्कॉलरशिप

# कमाना चाहते हैं घर बैठे लाखों रूपये, इन क्षेत्रों में बनाए अपना करियर

# बढ़वाना चाहते हैं ऑफिस में अपनी सैलेरी, ये ट्रिक बढ़े काम के

# रोबोट कभी नहीं छीन पाएँगे ये 3 जॉब, बनाए इसमें अपना करियर

Advertisement