career4education.com

Advertisement

  • 17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे भाजपा सांसद वीरेंद्र कुमार, चुने गए है सातवीं बार सांसद

17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे भाजपा सांसद वीरेंद्र कुमार, चुने गए है सातवीं बार सांसद

By: C4E Team Wed, 12 June 2019 07:54 AM

17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे भाजपा सांसद वीरेंद्र कुमार, चुने गए है सातवीं बार सांसद

देश के लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए जनता चुनाव के द्वारा अपने प्रत्याक्षियों का चुनाव करती हैं और इन प्रत्याक्षियों के चुनाव के बाद ही सरकार का चुनाव होता हैं। इस बार हुए चुनाव 17वीं लोकसभा के लिए थे जिसमें 23 मई को नतीजों के साथ ही भाजपा को बहुमत मिला और 30 मई को नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री पद की शपथ ली गई। इसी के साथ ही 17वीं लोकसभा का गठन हुआ। लोकसभा के उचित संचालन के लिए एक प्रोटेम स्पीकर की जरूरत होती हैं जो अब मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए भाजपा सांसद वीरेंद्र कुमार बनने जा रहे हैं। इन्हीं के द्वारा ही चुने गए सांसदों को सदन की सदस्यता की शपथ दिलाई जाएगी।

प्रोटेम स्पीकर के बारे में

- प्रोटेम स्पीकर एक अस्थायी स्पीकर होता है जो लोकसभा में कार्यों के संचालन के लिए सीमित अवधि के लिए नियुक्त किया जाता है।
- प्रोटेम स्पीकर सदन का सबसे वरिष्ठ सदस्य होता है जो स्पीकर और डिप्टी स्पीकर की नियुक्ति नहीं होने तक सदन की कार्यवाही संचालित करता है।
- हालांकि लोकसभा अथवा विधानसभाओं में प्रोटेम स्पीकर की जरूरत तब भी पड़ती है, जब सदन में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, दोनों का पद खाली हो जाता है।
- प्रोटेम स्पीकर सदन के सबसे सीनियर सदस्य को बनाया जाता है।
- प्रोटेम स्पीकर ही सदन में नए चुनकर आए सदस्यों को शपथ दिलाते हैं। नए स्पीकर के चुनाव के बाद प्रोटेम स्पीकर का काम समाप्त हो जाता है।

12 june 2019 current affairs,current affairs,current affairs in hindi,bjp,bjp mp virendra kumar,protem speaker,17th lok sabha ,12 जून 2019 करंट अफेयर्स, करंट अफेयर्स, करंट अफेयर्स हिंदी में, भाजपा, भाजपा सांसद वीरेंद्र कुमार, प्रोटेम स्पीकर, 17वीं लोकसभा

वीरेंद्र कुमार के बारे में

- वीरेंद्र कुमार का जन्म मध्य प्रदेश के सागर शहर में 27 फरवरी 1954 को हुआ था।
- पीएम मोदी के नेतृत्व वाली पहली सरकार में वह अल्पसंख्यक मंत्रालय एवं महिला एवं बाल विकास मिनिस्ट्री में राज्यमंत्री थे।
- बचपन से ही आरएसएस से जुड़े डॉ। वीरेंद्र कुमार को सागर और टीकमगढ़ क्षेत्र में सादगी के लिए जाना जाता है।
- वह पहली बार साल 1996 में सागर संसदीय सीट से सांसद चुने गए थे। उन्होंने अर्थशास्त्र में एमए और बाल श्रम संबंधी विषय पर पीएचडी की है।
- वह कई सालों तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सक्रिय कार्यकर्ता और पदाधिकारी रहे हैं। इसके अलावा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, विश्व हिंदू परिषद सहित भाजपा में विभिन्न पदों पर रह चुके हैं।
- वीरेंद्र कुमार 7वीं बार सांसद चुने गए हैं। भारत की 11वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं, 15वीं और 16वीं लोकसभा के सदस्य रहे है।

Advertisement