career4education.com

Advertisement

  • 'मुद्रा शिशु ऋण' योजना से किसे मिलेगा लाभ? केंद्र सरकार ने की घोषणा

'मुद्रा शिशु ऋण' योजना से किसे मिलेगा लाभ? केंद्र सरकार ने की घोषणा

By: C4E Team Tue, 02 June 2020 4:24 PM

'मुद्रा शिशु ऋण' योजना से किसे मिलेगा लाभ? केंद्र सरकार ने की घोषणा

कोरोना के कारण देश की अर्थव्यवस्था डगमगा गई हैं और आर्थिक मंदी के हालत बढ़ते जा रहे हैं। इसका सबसे ज्यादा असर छोटे व्यवसायों और कुटीर उद्योगों पर पड़ा हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री के आत्‍मनिर्भर भारत योजना का 'मुद्रा शिशु ऋण' योजना एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं जिसकी घोषणा केंद्र सरकार द्वारा की गई है। इस योजना से एक लाख लाभार्थी एक वर्ष के लिए 2 प्रतिशत का ब्याज लाभ उठा सकते हैं। केंद्र सरकार 12 महीने की अवधि के लिए तुरंत भुगतान करने पर 2 प्रतिशत का ब्याज अनुदान देने की घोषणा की है। इससे मुद्रा शिशु लोन लिए लोगों को 1500 करोड़ रुपये की राहत मिलेगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना (COVID-19) महामारी के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 20 लाख करोड़ के पैकेज की दूसरी किश्त की घोषणा करते हुए ‘मुद्रा शिशु ऋण’ की घोषणा की थी। वित्त मंत्री ने कहा था कि कोरोना लॉकडाउन के कारण मुद्रा योजना के तहत आने वाले छोटे व्यवसाई सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। वे व्यवसाय प्रभावित होने के कारण अपनी ईएमआई नहीं चुका पा रहे हैं।

मुद्रा योजना के तहत 50 हजार से 10 लाख तक का लोन मिल जाता है। इसमें 3 तरह के लोन होते हैं। शिशु लोन के तहत 50,000 रुपये तक का लोन मिलता है। किशोर लोन के तहत 50 हजार से 5 लाख रुपये तक का लोन और तरुण लोन के तहत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है।

मुख्य बिंदु
- वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने मुद्रा योजना के तहत शिशु लोन लेने वालों को 12 महीने तक सरकार ब्याज में 2 प्रतिशत तक छूट देने की घोषणा की है।
- इससे लोन लेने वाले लगभग 3 करोड़ लोगों के कुल 1500 करोड़ रुपये बचेंगे। इस योजना के तहत अपना कारोबार शुरू करने के लिए सरकार कम दरों पर लोन उपलब्ध कराती है। इस योजना में तीन श्रेणी में लोन दिए जाते हैं।
- कोई भी शख्स शिशु लोन योजना के तहत दुकान आदि खोलने के लिए 50,000 रुपए तक का लोन ले सकता है। वे इससे अपना रोजगार कर सकता है। अभी केंद्र सरकार ने जो छूट दी है, वह इसी के तहत दी है।
- इस कदम का मुख्य उद्देश्य कोरोना (COVID-19) महामारी के मद्देनजर दुकानदारों, विशेष रूप से छोटे व्यवसायों की कष्ट को रोकना है।
- मुद्रा शिशु लोन योजना के तहत सबसे छोटी कैटिगरी है, जिसकी लिमिट 50 हजार रुपये तक है। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार के इस घोषणा से 3 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा।
- वित्त मंत्री के अनुसार मुद्रा स्कीम के तहत अबतक 1.62 करोड़ रुपये का लोन बाटा जा चुका है।

यह भी पढ़े :

# भारतीय सेना खरीदने जा रही अमेरिका से 72 हजार एसआईजी राइफल

# रूस ने किया कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल को पूरा, बना यह कारनामा करने वाला दुनिया का पहला देश

# बाघों की गिनती के मामले में भारत ने बनाया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड

# 15 जुलाई को होने जा रही भारत और यूरोपीय संघ के बीच ऑनलाइन बैठक

# इस भारतीय किशोर ने रिकॉर्ड बना दर्ज कराया गिनीज बुक में अपना नाम

Advertisement