career4education.com

Advertisement

  • राजस्थान सरकार का महत्वपूर्ण फैसला, बेरोजगारों को मिलेगा 3500 रुपये प्रति माह तक बेरोजगारी भत्ता

राजस्थान सरकार का महत्वपूर्ण फैसला, बेरोजगारों को मिलेगा 3500 रुपये प्रति माह तक बेरोजगारी भत्ता

By: C4E Team Mon, 24 June 2019 1:35 PM

राजस्थान सरकार का महत्वपूर्ण फैसला, बेरोजगारों को मिलेगा 3500 रुपये प्रति माह तक बेरोजगारी भत्ता

अक्सर देखा गया हैं कि प्रतियोगी परीक्षाओं में केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा चलाई गई योजनाओ से जुड़े कई सवाल शामिल किए जाते हैं। खासतौर से राज्य स्तर पर होने वाली परीक्षाओं में तो राज्य सरकार की योजनाओं से जुड़े सवाल आते ही हैं। इसलिए आज हम आपके लिए राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई 'मुख्यमंत्री युवा संबल योजना' से जुड़ी जानकारी लेकर आए हैं जिसके अनुसार बेरोजगारों को प्रति माह 3500 रुपये तक बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा। तो आइये जानते हैं इस योजना से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में।

- राजस्थान सरकार राज्य में स्नातक या समकक्ष डिग्री रखने वाले बेरोजगार युवाओं को प्रति माह 3,500 रुपये तक बेरोजगारी भत्ता प्रदान करेगी।
- इस लाभ के लिए आवेदक राजस्थान के मूल निवासी होना चाहिए।
- योजना फरवरी 2019 से लागू की गई है।
- पुरुष आवेदकों को प्रति माह 3,000 रुपये मिलेंगे। महिलाओं और विकलांग आवेदकों को प्रति माह 3,500 रुपये मिलेंगे।
- अभ्यर्थियों को दो साल तक या नौकरी मिलने तक राशि दी जाएगी।

24 june 2019 current affairs,current affairs,current affairs in hindi,mukhya mantri yuwa sanbal yojna,rajasthan,ashok gahlot ,24 जून 2019 करंट अफेयर्स, करंट अफेयर्स, करंट अफेयर्स हिंदी में, मुख्यमंत्री युवा संबल योजना, राजस्थान, अशोक गहलोत

राजस्थान के बारे में

- राजधानी: जयपुर
- मुख्यमंत्री: अशोक गहलोत
- राज्यपाल: कल्याण सिंह
- राष्ट्रीय उद्यान: मुकुंदरा हिल्स (दर्रा) राष्ट्रीय उद्यान, मरुभूमि राष्ट्रीय उद्यान, केवलादेव घाना राष्ट्रीय उद्यान, रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान, सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान
- वन्यजीव अभयारण्य (डब्ल्यूएलएस): माउंट आबू डब्ल्यूएलएस, नाहरगढ़ डब्ल्यूएलएस, केसरबाग डब्ल्यूएलएस, सरिस्का डब्ल्यूएलएस, वन विहार डब्ल्यूएलएस, सवाई मान सिंह डब्ल्यूएलएस आदि।

यह भी पढ़े :

# केनरा बैंक द्वारा किया गया नकद जमा और निकासी के नियमों में बदलाव, 1 जुलाई 2019 से प्रभावी

# GST परिषद द्वारा 2 साल के लिए बढ़ाया गया NAA का कार्यकाल, जीएसटी दरों में कटौती का लाभ ना देने पर कंपनियों को भुगतना पड़ेगा दस प्रतिशत तक जुर्माना

Advertisement