career4education.com

Advertisement

  • निर्भया केस: फांसी की सजा रहेगी बरकरार, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन

निर्भया केस: फांसी की सजा रहेगी बरकरार, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन

By: C4E Team Tue, 14 Jan 2020 4:23 PM

निर्भया केस: फांसी की सजा रहेगी बरकरार, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन

16 दिसंबर 2012 की रात को दक्षिण दिल्ली में निर्भया के साथ घटित हुई घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। 7 जनवरी 2020 को दिल्ली के पटियाला कोर्ट द्वारा निर्भया केस में अपराधियों के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी हो गया था और 22 जनवरी 2020 को उन्हें फांसी दी जानी हैं। इस फैसले के बाद दो दोषियों विनय शर्मा और मुकेश सिंह द्वारा सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन डाली गई थी जिसे खारिज कर दिया गया हैं और सजा को बरकरार रखा गया हैं। हालांकि, अब भी इन दोनों के पास सिर्फ राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर करने का एकमात्र विकल्प बचा है।

पटियाला हाउस कोर्ट के जज ने इससे पहले वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चारों दोषियों से बात की। इस दौरान मीडिया को भी अंदर नहीं जाने दिया गया। गौरतलब है कि निर्भया मामले में चारों दोषियों अक्षय ठाकुर, मुकेश सिंह, विनय सिंह और पवन गुप्ता को पहले ही फांसी की सजा दी जा चुकी है। अदालत ने इस दौरान दोषियों के हक का ध्यान रखते हुए उन्हें क्यूरेटिव पिटिशन दायर करने के लिए 14 दिन का समय दिया है। इस बीच दोषी क्यूरेटिव पिटीशन दायर कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :

# संयुक्त राष्ट्र ने दिया पाकिस्तान को बड़ा झटका, तालिबान नेता नूर महसूद घोषित हुआ वैश्विक आतंकी

# अगस्त 2021 UNSC का अध्यक्ष बनेगा भारत, जानें पूरी जानकारी

# भारत-चीन सीमा पर सैनिकों में हिंसक झड़प, मारे गए दोनों ओर के सैनिक

Advertisement