career4education.com

Advertisement

  • कोरोना कहर के दौरान RBI ने किए बड़े ऐलान, रेपो रेट में की गई 0.40 प्रतिशत की कटौती

कोरोना कहर के दौरान RBI ने किए बड़े ऐलान, रेपो रेट में की गई 0.40 प्रतिशत की कटौती

By: C4E Team Fri, 22 May 2020 12:30 PM

कोरोना कहर के दौरान RBI ने किए बड़े ऐलान, रेपो रेट में की गई 0.40 प्रतिशत की कटौती

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की तरफ से गवर्नर शक्तिकांत दास आज 22 मई 2020 को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई। गवर्नर शक्तिकांत दास की कोरोना संकट में उभरने को लेकर यह तीसरी प्रेस कॉन्फ्रेंस थी। इससे पहले 27 मार्च और और 17 अप्रैल को भी वे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुके हैं जिनमें कई उपयोगी घोषणाएं की गई थी। आज भी कई घोषणाएं की गई ताकि बैंकिंग सिस्टम में लिक्विडिटी को बढ़ाया जा सकें और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में मदद मिल सकें। इन घोषणाओं में सबसे मुख्य रही रेपो रेट की दर जिसे 4.40 प्रतिशत से घटाकर 4 प्रतिशत कर दिया गया अर्थात रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती की गई हैं। वहीं, रिवर्स रेपो रेट 3.75 प्रतिशत से घटकर 3.35 प्रतिशत हो जायेगा। लोन की किश्त चुकाने में छूट का समय 3 महीने और बढ़ाया गया, अगस्त तक इसका फायदा मिलता रहेगा।

RBI के प्रेस कांफ्रेंस की बड़ी बातें

- आरबीआई गवर्नर ने बताया कि मोरेटोरियम की समय सीमा बढ़ाकर छह महीने कर दी गई है। तीन महीने के लिए दिए गए हर तरह की राहत को अब और तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। यानी मोराटोरियम 1 जून से 31 अगस्त तक के लिे बढ़ा दिया गया है।
- आरबीआई गवर्नर ने बताया कि बैंकों कि ग्रुप एक्सपोजर सीमा को 30 प्रतिशत से बढ़ाने का फैसला लिया गया है। आरबीआई ने EMI चुकाने वाले ग्राहकों को बड़ी राहत दी है।
- आरबीआई गवर्नर ने बताया कि एमसीपी के अनुसार दूसरी छमाही में महंगाई में कमी का अनुमान है। आरबीआई गवर्नर ने बताया कि मांग में कमी के कारण निवेश में भी भारी कमी आई है।
- आरबीआई गवर्नर ने बताया कि कोरोना वायरस (कोविड-19) से निजी खपत को काफी बड़ा नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि मौजूदा हालातों में एग्रीकल्चर से उम्मीदें हैं। उन्होंने कहा कि फॉरेन रिजर्व 487 बिलियन डॉलर है।
- आरबीआई गवर्नर ने बताया उपभोक्ता उत्पादों की मांग में मार्च महीने 33 प्रतिशत की गिरावट आई है। उन्होंने बताया कि मैन्युफक्चरिंग पीएमआई अप्रैल महीने में 27.4 प्रतिशत रही है। आरबीआई गवर्नर ने बताया कि सर्विसेज पीएमआई अप्रैल महीने में 5.4 प्रतिशत रही है।
- आरबीआई गवर्नर ने बताया कि पिछले तीन दिन में एमपीसी ने घरेलू और ग्लोबल माहौल की समीक्षा की। इसके बाद रेपो रेट में 0.40 प्रतिशत की कटौती का फैसला लिया गया है।
- आरबीआई ने कोरोना के असर को देखते हुए कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही में जीडीपी ग्रोथ निगेटिव रहने का अनुमान है। दूसरी छमाही में कुछ तेजी आ सकती है। आरबीआई लगातार हालात पर नजर रख रहा है।

यह भी पढ़े :

# अर्जुन पुरस्कार के लिए BCCI द्वारा ईशांत शर्मा, शिखर धवन और दीप्ति शर्मा हुए नामांकित

# राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार 2020 के लिए BCCI ने रोहित शर्मा को किया नामांकित

# आखिर क्या हैं ‘ओपन स्काइज’ संधि जिससे अलग हुआ अमेरिका

# अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजा गया स्टार भारोत्तोलक मीराबाई चानू का नाम, जीत चुकी है खेल रत्न

# लॉकडाउन के दौरान किसानों को बांटी गई 19,100 करोड़ रुपये की सहायता राशि

Advertisement