career4education.com

Advertisement

  • लॉकडाउन में भी अपना काम कर रहे है SEZ

लॉकडाउन में भी अपना काम कर रहे है SEZ

By: C4E Team Wed, 01 Apr 2020 6:07 PM

लॉकडाउन में भी अपना काम कर रहे है SEZ

देश-दुनिया में लॉकडाउन की स्थिति हैं जिस वजह से सभी काम ठप हो चुके हैं। लेकिन विशेष आर्थिक क्षेत्र (SEZ) कि सेवाएं अभी भी शुरू हैं। जी हां, दवाइयां, ड्रग्स और अस्पताल के उपकरणों को बनाने वाले आर्थिक क्षेत्र देश के निर्यात में अपना 18% योगदान देते हैं। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए लगभग 280 विशेष आर्थिक क्षेत्र कार्यरत हैं। इस बात पर भी गौर किया जाए कि वर्ष 2019-20 में एसईजेड से आयत बढ़ा है और 110 बिलियन अमरीकी डॉलर तक पहुंच गया है।

जी 20 देशों के मंत्रियों को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने यह कहा कि भारत ने दुनिया के 190 देशों को अपनी दवाइयों और अन्य जरुरी वस्तुओं के निर्यात में कोई कमी नहीं की है। यह इसलिए संभव हो सका क्योंकि इन दिनों भी हमारे देश में एसईजेड अपना काम कर रहे हैं। इसी तरह, देश की 1,900 आईटी यूनिटों के कर्मचारी भी अपने घर से काम कर रहे हैं।

जुलाई, 2019 को हमारे देश में केंद्र सरकार के तहत 7 एसईज़ेड्स और राज्य सरकार या प्राइवेट सेक्टर के अधीन 12 एसईज़ेड्स संचालित किए जा रहे हैं। ये सभी एसईज़ेड्स वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अधीन संचालित किये जा रहे हैं। एसईजेड अधिनियम, 2005 के तहत राज्यों को एसईज़ेड्स के संचालन की अनुमति प्राप्त है। देश के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए इस अधिनियम में राज्य सरकारों की महत्त्वपूर्ण भूमिका को भी परिभाषित किया गया है।

यह भी पढ़े :

# प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू की गई 'मेरा जीवन मेरा योग' वीडियो ब्लॉगिंग प्रतियोगिता, मिलेगा 1 लाख रुपये का पुरुस्कार

# अर्जुन पुरस्कार के लिए BCCI द्वारा ईशांत शर्मा, शिखर धवन और दीप्ति शर्मा हुए नामांकित

# राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार 2020 के लिए BCCI ने रोहित शर्मा को किया नामांकित

# आखिर क्या हैं ‘ओपन स्काइज’ संधि जिससे अलग हुआ अमेरिका

# अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजा गया स्टार भारोत्तोलक मीराबाई चानू का नाम, जीत चुकी है खेल रत्न

Advertisement