career4education.com

Advertisement

  • अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया श्रीलंका का पहला उपग्रह 'रावण -1'

अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया श्रीलंका का पहला उपग्रह 'रावण -1'

By: C4E Team Fri, 19 Apr 2019 7:12 PM

अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया श्रीलंका का पहला उपग्रह 'रावण -1'

हर देश चाहता है कि वह विकास करें और अंतरिक्ष में भी अपने झंडे गाड़े। इसके लिए देशो द्वारा समय-समय पर अंतरिक्ष में उपग्रह भेजे जाते हैं और उनका सफल परीक्षण उनके सफलता को दर्शाता हैं। देश-विदेश द्वारा उठाए गए ये कदम प्रतियोगी परीक्षाओं में भी पूछे जाते हैं। इसलिए आज हम आपके लिए 18 अप्रैल 2019 से जुड़ी करंट अफेयर्स की जानकारी देने जा रहे है जिसके अनुसार श्रीलंका का पहला उपग्रह 'रावण -1' अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया। तो आइये जानते है इससे जुड़ी जानकारी के बारे में।

- 18 अप्रैल, 2019 को श्रीलंका ने वर्जीनिया के पूर्वी तट पर नासा के वॉलॉप्स फ्लाइट फैसिलिटी में 1.05 किलोग्राम वजन वाले अपने पहले सैटेलाइट 'रावण-1' को मिड-अटलांटिक रीजनल स्पेसपोर्ट से लॉन्च किया। रावण 1 साइग्नस कार्गो अंतरिक्ष यान ले जाने वाले एंटेरास रॉकेट से जुड़ा था। उपग्रह की पृथ्वी से 400 किमी दूर कक्षा में जाने की उम्मीद है और इसका जीवनकाल लगभग 1.5 वर्ष होगा।

- रावण 1, परियोजना 'बर्ड्स' के तीसरे चरण का हिस्सा है, जिसका नेतृत्व जापान में क्यूशू इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा किया जाता है। परियोजना का उद्देश्य देशों को संयुक्त राष्ट्र की सहायता से अपना पहला उपग्रह बनाने में मदद करना है।


- 11.3 सेंटीमीटर (सेमी) x 10 सेमी x 10 सेमी माप वाला उपग्रह, जापान के क्यूशू इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में 2 श्रीलंकाई अनुसंधान इंजीनियरों, थारिंदु दयारथना और दुलानी चमिका विथानगे द्वारा डिजाइन और निर्मित किया गया है।

- रावण 1 का कैमरा मिशन श्रीलंका और उसके पड़ोसी देशों की तस्वीरें लेना है।

- रावण 1 का लोरा प्रदर्शन मिशन अगले उपग्रहों के लिए डेटा डाउनलोड करने के लिए उपयोग किए जाने वाले मॉड्यूल को मान्य करेगा।

- उपग्रह का एटिट्यूड डीटरमिनेशन एंड कण्ट्रोल मिशन चुंबकीय टार्कस का उपयोग करके उपग्रह के कोणीय वेग को कम करने की कोशिश करेगा।

यह भी पढ़े :

# जारी की गई विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2019 की रैंकिंग, नॉर्वे रहा शीर्ष पर और भारत को मिला 140वां स्थान

# BOB और SEFL के बीच हुआ समझौता, सह-उधार देने के लिए लेंगे आईकुइप्पो की मदद

# IESA का चेयरमैन नियुक्त हुए जितेन्द्र चड्ढा, लेंगे अनिल कुमार मुनीस्वामी की जगह

# नेपाल द्वारा लॉन्च किया गया अपना पहला उपग्रह 'नेपालीसैट -1', काम में लिया गया एंटेरास रॉकेट

# 'ग्रामीण परिदृश्य' के विषय पर मनाया गया विश्व धरोहर दिवस

Advertisement