career4education.com

Advertisement

  • लेह में होगी राष्ट्रीय सोवा रिग्पा संस्थान की स्थापना, सरकार ने तैयार की योजना

लेह में होगी राष्ट्रीय सोवा रिग्पा संस्थान की स्थापना, सरकार ने तैयार की योजना

By: C4E Team Mon, 02 Dec 2019 1:23 PM

लेह में होगी राष्ट्रीय सोवा रिग्पा संस्थान की स्थापना, सरकार ने तैयार की योजना

सरकार द्वारा विकास और प्रगति के लिए कई काम किए जाते हैं। इसी के साथ सरकार द्वारा कई संस्थानों की स्थापना की जाती हैं जो किसी विशेष क्षेत्र या पद्धति के लिए विकासशील हो। इसी ओर कदम बढाते हुए केंद्र सरकार द्वारा लेह में राष्ट्रीय सोवा रिग्पा संस्थान की स्थापना करने का निश्चित किया गया हैं। इससे देश में सोवा-रिग्पा के विकास और अनुसन्धान को प्रोत्साहन प्राप्त होगा। सोवा-रिग्पा के इस संस्थान द्वारा भारत में इस पद्धति को लोकप्रियता हासिल होगी और विश्व भर के विद्यार्थियों को यहां पढ़ने के अवसर मिलेंगे।

यह संस्थान केन्द्रीय आयुष मंत्रालय के तहत स्थापित किया जाने वाला एक स्वायत्त संस्थान होगा। यह सोवा रिग्पा प्रणाली का देश में मौजूद सर्वोच्च संस्थान होगा। सरकार का मानना है कि इस प्रयास द्वारा भारत में सोवा-रिग्पा औषधि पद्धति पुनर्जीवित हो सकेगी। केंद्र सरकार द्वारा इस संस्थान की स्थापना के लिए 47.25 करोड़ रुपये की लागत का अनुमान लगाया गया है। सोवा-रिग्पा के इस संस्थान द्वारा भारत में इस पद्धति को लोकप्रियता हासिल होगी और विश्व भर के विद्यार्थियों को यहां पढ़ने के अवसर मिलेंगे। भारत व विश्व के जाने-माने संस्थानों के साथ शोध व विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों के मेल को भी बढ़ावा मिलेगा।

सोवा-रिग्पा क्या है?
"सोवा-रिग्पा" जिसे आमतौर पर अमची चिकित्सा पद्धति के रूप में जाना जाता है, दुनिया की सबसे पुरानी, जीवित और प्रयोग में लाई गई चिकित्सा परंपराओं में से एक है। यह तिब्बत, मंगोलिया, भूटान, चीन के कुछ हिस्सों, नेपाल, भारत के हिमालयी क्षेत्रों और पूर्व सोवियत संघ के कुछ हिस्सों आदि में प्रचलित रहा है। सोवा-रिग्पा के सिद्धांत और व्यवहार "आयुर्वेद" के समान होते हैं। सोवा-रिग्पा सबसे पहले तीसरी शताब्दी ईस्वी के दौरान तिब्बत में आरंभ हुआ था लेकिन यह तिब्बत के बौद्ध धर्म के दृष्टिकोण के साथ 7वीं शताब्दी के बाद ही लोकप्रिय हुआ। यह भारत में सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग, हिमाचल प्रदेश और लद्दाख में सदियों से उपयोग में आती रही है। इसकी मूल पुस्तक ‘Gyud-Zi’ के लिए कहा जाता है कि इसे खुद गौतम बुद्ध ने लोगों के बीच प्रसारित किया गया था। इसी वजह से इसे बौद्ध दर्शन के भी निकट माना जाता है।

भारत में सोवा-रिग्पा
भारत में, यह प्रणाली सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, दार्जिलिंग (पश्चिम बंगाल), धर्मशाला, लाहौल और स्पीति (हिमाचल प्रदेश), लद्दाख, जम्मू और कश्मीर में व्यापक रूप से प्रचलित है। हाल ही में नई दिल्ली में सोवा-रिग्पा संगठन द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें इस तिब्बती चिकित्सा (सोवा-रिग्पा) और खगोल-विज्ञान पर व्याख्यान के साथ-साथ चित्र प्रदर्शनी और निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श भी दिया गया। इसके अलावा भारत द्वारा यूनेस्को में इस पद्धति पर दावा भी पेश किया गया है, जबकि चीन का दावा है कि यह उसके देश द्वारा अपनाई गई प्राचीन चिकित्सा पद्धति है।

यह भी पढ़े :

# आखिर क्या हैं नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने किया लॉन्च

# राम मंदिर भूमि पूजन : प्रधानमंत्री मोदी द्वारा रखी गई आधारशिला

# पाकिस्तान ने अपने आधिकारिक नक्शे में जम्मू कश्मीर-लद्दाख-जूनागढ़ को किया शामिल

# प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत खुलने वाले खातों की संख्या हुई 40 करोड़ के पार

# आंध्र प्रदेश बना तीन राजधानी वाला पहला राज्य, राज्यपाल ने दी मंजूरी

Advertisement