career4education.com

Advertisement

  • अब विश्व के बाजारों में खादी के मास्क बेचने की बनाई जा रही योजना

अब विश्व के बाजारों में खादी के मास्क बेचने की बनाई जा रही योजना

By: C4E Team Sat, 23 May 2020 11:24 AM

अब विश्व के बाजारों में खादी के मास्क बेचने की बनाई जा रही योजना

इस कोरोना काल के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आत्मानिर्भर भारत की सोच राखी गई थी। इस सोच की ओर कदम बढाते हुए खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) द्वारा अब विश्व के बाजारों में खादी के मास्क बेचने की योजना बनाई जा रही हैं। खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) को इस लॉकडाउन के दौरान 8 लाख मास्क का आर्डर मिला था जिसमें से आयोग 6 लाख की आपूर्ति कर चुका हैं। इस बिक्री के अलावा भी खादी संस्थानों द्वारा देश भर के जिला प्राधिकरणों को 7.5 लाख से अधिक खादी मास्क पहले ही वितरित किए जा चुके हैं।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने सभी प्रकार के गैर-सर्जिकल/ नॉन मेडिकल मास्क के निर्यात पर प्रतिबंध हटाने का फैसला किया था और विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) द्वारा 16 मई, 2020 को इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई थी। KVIC ने दो परतों और तीन परतों वाले सूती और सिल्क के मास्क भी तैयार किये हैं क्योंकि मौजूदा कोविड -19 महामारी के दौरान इनकी मांग बढ़ी है। ये मास्क पुरुषों के लिए दो रंगों में और महिलाओं के लिए कई रंगों में उपलब्ध हैं।

KVIC के अध्यक्ष श्री विनय कुमार सक्सेना ने बताया कि 'स्थानीय से वैश्विक' स्तर पर खादी मास्क का निर्यात एक आदर्श उदाहरण होगा। उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अपील किए जाने के बाद, खादी से बने मास्क दुनिया भर में लोकप्रिय हो गए हैं। खादी मास्क के निर्यात से इसका उत्पादन बढ़ेगा जो भारत के कारीगरों के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा करेगा।

KVIC अमेरिका, दुबई, मॉरीशस, और विभिन्न यूरोपीय और मध्य पूर्व के देशों में फेस मास्क की आपूर्ति करने की योजना बना रहा है जहां खादी उत्पाद पिछले कुछ वर्षों में काफी लोकप्रिय हो गए हैं। भारतीय दूतावासों के माध्यम से इन देशों को खादी मास्क बेचने की योजना बनाई गई है।

KVIC के अध्यक्ष ने यह भी कहा कि कोविड -19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में फेस मास्क सबसे आवश्यक साधन बन गया है। डबल ट्विस्टेड खादी फैब्रिक से तैयार किए गए खादी मास्क गुणवत्ता में खरे उतरने के साथ मांग भी पूरी करेंगे।

खादी के मास्क की विशेषता
- इन मास्क के निर्माण के लिए विशेष रूप से डबल ट्विस्टेड खादी फैब्रिक का उपयोग किया गया है।
- यह फैब्रिक नमी को अंदर बनाए रखने में मदद करेगा जबकि यह हवा को गुजरने के लिए एक आसान मार्ग भी प्रदान करेगा।
- ये मास्क इसलिए भी खास हैं क्योंकि ये हाथ से काते और बुने हुए सूती और रेशमी कपड़ों से बने होते हैं।
- रेशम एक इलेक्ट्रोस्टैटिक बाधा के रूप में काम करता है और सूती कपड़ा एक मैकेनिकल बाधा के रूप में कार्य करता है।
- ये मास्क सांस लेने के लिए आरामदायक, लागत प्रभावी, पुन: इस्तेमाल होने वाले, धुलने योग्य और बायोडिग्रेडेबल हैं।

यह भी पढ़े :

# अर्जुन पुरस्कार के लिए BCCI द्वारा ईशांत शर्मा, शिखर धवन और दीप्ति शर्मा हुए नामांकित

# राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार 2020 के लिए BCCI ने रोहित शर्मा को किया नामांकित

# आखिर क्या हैं ‘ओपन स्काइज’ संधि जिससे अलग हुआ अमेरिका

# अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजा गया स्टार भारोत्तोलक मीराबाई चानू का नाम, जीत चुकी है खेल रत्न

# लॉकडाउन के दौरान किसानों को बांटी गई 19,100 करोड़ रुपये की सहायता राशि

Advertisement